Boondi Ladoo Recipe in Hindi – बूंदी के लड्डू रेसिपी (बनाने की विधि)

Boondi Ladoo Recipe in Hindi

बूंदी के लड्डू का नाम आते ही श्री गणेश जी महाराज का ख्याल आ जाता है। गणेश चतुर्थी के पूरे दस दिन लड्डू का भोग लगाया जाता है। इन लड्डू को बूंदी से बनाया जाता है जो बेसन से बनती है। इसे आजकल कई रंगों के साथ मिक्स करके बनाया जाता है जैसे कुछ बूंदी पीले रंग की, कुछ हरे रंग की और कुछ सैफरन रंग की। इन बून्दियो को मिलाकर रंग बिरंगे बूंदी के लड्डू बनते है। बूंदी दो तरह की बनती है एक सख्त और एक नरम। आज हम नरम बूंदी से लड्डू बनाना सीखेंगे।

बूंदी के लड्डू की लोकप्रियता

बूंदी के लड्डू एक मिठाई है जो हर खास मौको पर चाहे वो दिवाली हो, गणेश चतुर्थी हो या कोई शादी, सभी मौको पर बनाई जाती है। जब भी कोई ख़ुशी का मौका आता है आप बूंदी के लड्डू से सबका मुंह मीठा कराते ही हैं। कुछ खास मौको पर अगर लड्डू खाए और खिलाए जाए तो इसका मज़ा दुगना हो जाता है। इस लोकप्रिय लड्डू को बाज़ार से खरीदकर लगभग सभी ने एक बार तो जरुर खाया होगा।

बूंदी के लड्डू की खासियत

बूंदी के लड्डू की खासियत है उसका स्वाद और लुक। आजकल लड्डू के लुक को लेकर कई तरीके अपनाए जाते है। कुछ देसी घी में बनाते है, कुछ लोग डालडा घी में बनाते है, कोई अलग अलग रंग की बून्दियो से लड्डू बनाते है। इसको बनाने के लिए आपको ज्यादा चीजो की जरुरत नही पड़ती। अगर आपके पास बेसन, घी, चीनी, दूध और केसर है तो बस। इनके अलावा आपको किसी और चीज की जरुरत नही पड़ेगी।

बूंदी के लड्डू को सर्व कैसे करे

इन लड्डू को नमकीन या किसी तरह की मिक्सचर के साथ सर्व कर सकते है। नाश्ते में बाकी स्नैक्स के साथ इन लड्डू को भी खिलाया जा सकता है।

बूंदी के लड्डू से जुडी कुछ जरुरी सुझाव

  1. बूंदी को बनाने में इस्तेमाल झारा बहुत बड़ा न ले और न ही बहुत छोटा।
  2. बूंदी को ऊंचाई से न डाले, इससे तेल के छीटे उड़ेंगे और बूंदी भी चपटी बनेगी।
  3. अगर बूंदी गोल नही बन रही तो इसका मतलब घोल सही नही है। चपटी है तो घोल पतला है और अगर मोटी और कडक बन रही है तो इसका अर्थ है घोल गाढ़ा है। घोल की कंसिस्टेंसी बिलकुल सही हो
    Boondi Ladoo Recipe in Hindi
    5 from 2 votes
    Print

    बूंदी के लड्डू रेसिपी (Boondi Ladoo Recipe) बनाने की विधि हिंदी में

    बूंदी के लड्डू का परियच

    बूंदी के लड्डू किसी परिचय का मोहताज नही है। लड्डू सालो से भारतीय घरो में मिठाई के रूप में और भगवान के भोग के रूप में चढाने के लिए ख़रीदे जा रहे हैं परन्तु इस रेसिपी को पढने के बाद आप इन लड्डू को घर पर ही आसानी से बन पायेंगे।  

    Prep Time 15 minutes
    Cook Time 40 minutes
    Total Time 55 minutes
    Servings 10
    Calories 250 kcal

    Ingredients for बूंदी के लड्डू रेसिपी (Boondi Ladoo Recipe)

    • बेसन – 1/5 कप
    • सैफरन पाउडर – 2 चम्मच
    • बारीक पिसी छोटी इलायची पाउडर – 6
    • मगज के बीज – एक टेबल स्पून
    • घी
    • तेल

    चाशनी के लिए आवश्यक सामग्री

    • पानी
    • चीनी

    How to Make बूंदी के लड्डू रेसिपी (Boondi Ladoo Recipe)

    1. सबसे पहले हम बूंदी बनाएँगे 

    2. इसके लिए एक बाउल या बर्तन में बूंदी बनाने का सामान जैसे बेसन और सैफरन पाउडर डाले। 

    3. अब इसमें थोडा थोडा करके पानी डाले और बैटर तैयार करे। ध्यान रखे बैटर में गुठलियाँ नही होनी चाहिए। 

    4. बैटर सही है या नही इसका टेस्ट हम बूंदी बनाने की शुरुवात में करेंगे। 

    5. अब गैस पर तेल गरम करने रखे । 

    6. अब तेल गर्म हो जाए इसमें जिस चम्मच से या घोलने वाले टूल से मिक्स करके घोल तैयार किया है उससे कुछ बूंदे तेल में डालकर देखे। 

    7. अब बूंदी को निकालकर देखे, अगर बूंदी चपटी है तो बूंदी का बैटर पतला है और अगर बूंदी की पीछे पूँछ सी दिख रही है तो इसका अर्थ है बैटर मोटा है। अगर मोटा है तो थोडा सा पानी डालकर बराबर कर लीजिये और अगर पतला है तो थोडा और बेसन डाल ले। 

    8. जब घोल सही कंसिस्टेंसी का हो जाए इससे हम बूंदी बनाएंगे। 

    9. बूंदी बनाना शुरु करे इससे पहले हम चाशनी बनाने रख देंगे।  

    10. एक बर्तन में चीनी और पानी डाले और उबालने रखे। आंच को कम रखे और चाशनी पकने दे। 

    11. जब चाशनी उबल उबलकर एक तार वाली हो जाए,आंच बंद कर दे।  

    12. अब एक थाल में गर्म पानी रखे और चाशनी के इस बर्तन को उसमे रखे, क्योकि तली बूंदी हम गरम चाशनी में ही डालेंगे। 

    13. जब तक चाशनी बन रही थी आप बूंदी बना सकते है। 

    14. तेल गर्म हो गया होगा अब आप एक झारा ले और गरम पैन पर रख दे। बडे झारे का इस्तेमाल करे। 

    15. झारे को पैन के ऊपर ऊँचा नही रखे क्योकि इससे गोल बूंदी नही बन पाएगी। 

    16. अब एक चम्मच से थोडा सा बैटर झारे के ऊपर डाले। 

    17. अब चम्मच से बैटर को झारे पर फैलाते हुए घुमाए। 

    18. बूंदी को ज्यादा कडक नही करना है और न ही ज्यादा देर तक तलना है क्योकि अगर बूंदी कडक हो गयी तो लड्डू चाशनी अच्छे से नही चूसेंगे और लड्डू सॉफ्ट नही बनेगे।  

    19. जब पैन में तेल का उछलना कम हो जाए और उसमें बुलबुले दिखना बंद हो तब बूंदी निकाल ले। 

    20. आप जब भी दूसरी बार झारे में घोल डाले उससे पहले झारे को आगे और पीछे से अच्छे से किसी कपडे या टिश्यू से पोछ ले। 

    21. इसी तरह पूरी बूंदी तल ले। 

    22. अब इन बून्दियो को चाशनी में डाले। 

    23. अब इसमें मगज के बीज और इलायची पाउडर डाले और मिला ले। 

    24. अब लड्डू बनाना शुरू करे। 

    25. थोडा सी बूंदी हथेली पर रखे। 

    26. अब दोनों हाथो की मदद से गोल-गोल लड्डू बना ले। 

    27. आप इन लड्डू को सजाने के लिए इसके ऊपर काजू या बादाम भी डाल सकते है।  

    Notes

    आप टेस्टी और लाजवाब बूंदी के लड्डू बनाना सीख गए होंगे। आज ही इस मिठाई को बनाकर देखे।

    Nutrition Facts
    बूंदी के लड्डू रेसिपी (Boondi Ladoo Recipe)
    Amount Per Serving
    Calories 250
    * Percent Daily Values are based on a 2000 calorie diet.

    ना जरुरी है।

  4. आप बूंदी को घी में भी तल सकते है।
  5. बूंदी को रंग देने के लिए इसमें पीला खाने का रंग डाला जाता है।
  6. सबसे महत्वपूर्ण बात। अगर आप लड्डू भगवान को भोग लगाने के लिए बना रहे है तो इसे सफाई, श्रधा और प्यार से बनाए। लड्डू बनने के बाद उनको सूंघे नही और न ही चखकर देखे। ऐसा करने से लड्डू झूठे हो जाएगे और भगवान को भोग लगाने लायंक नही रह जाएगे।

बूंदी के लड्डू का स्वाद और फ्लेवर

बूंदी का स्वाद मीठा होता है और फ्लेवर बेहतरीन। अगर बूंदी के लड्डू घी में बनी बूंदी से बने होते है तो इन लड्डू की खुशबु दूर बैठे व्यक्ति तक भी पहुंच जाती है। कुछ लोग इसके ऊपर थोड़ी से रबड़ी भी डालकर खाते है। इससे लड्डू का मज़ा दुगना हो जाता है।

बूंदी के लड्डू का सारांश

बूंदी के लड्डू बनाने की तयारी में लगने वाला समय – 10 से 15 मिनट

कितने लोगो के लिए – 10 से 15 लोगो के लिए

बूंदी के लड्डू बनाने में लगने वाला समय – 35 से 40 मिनट।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recipe Rating